कुछ महत्वपूर्ण सूचनाएं

बिहार यूनिवर्सिटी एक दिन भी उपस्थित नहीं होने वाले छात्रों का नामांकन रद्द 

बिहार यूनिवर्सिटी एक दिन भी उपस्थित नहीं होने वाले छात्रों का नामांकन रद्द:- एक महीने में 30 हजार से अधिक छात्रों ने एक दिन भी कक्षा नहीं की। बिहार विवि के विभिन्न कॉलेजों में यूजी और पीजी विभागों में नामांकन कराने के बाद कक्षा नहीं करने वाले की रिपोर्ट मांगी गई है। विवि और कॉलेजों में एक तरफ 75 फीसदी उपस्थिति अनिवार्य है तो दूसरी ओर बिहार विवि में ऐसे सैकड़ों छात्र- छात्राएं हैं, जो नामांकन के बाद कक्षा में आये ही नहीं हैं। अब इन छात्र- छात्राओं से स्पष्टीकरण के बाद इनका नामांकन रद्द हो सकता है। 

  • छात्र छात्राओं के लिए आखिरी चेतावनी
  • 30 से 50 फीसदी विद्यार्थी एक दिन भी नहीं आये कॉलेज
  • पीजी से अधिक यूजी में विद्यार्थियों की अनुपस्थिति
  • नोटिस बोर्ड पर चिपका नाम तो आया थोड़ा सुधार
  • कुछ महत्वपूर्ण सूचनाएं
  • कुछ महत्वपूर्ण लिंक

छात्र छात्राओं के लिए आखिरी चेतावनी बिहार यूनिवर्सिटी

अंतिम चेतावनी के साथ एक मौका दिया जाएगा, वहीं जवाब नहीं देने वाले या गलत कारण बताने वाले छात्र-छात्राओं के नामांकन रद्द करने की कार्रवाई की जाएगी। आरबीबीएम समेत कई कॉलेज और विवि के पीजी विभागों ने नामांकन रद्द करने के लिए ऐसे छात्र-छात्राओं की विविको सूची भेजी है।

30 से 50 फीसदी विद्यार्थी एक दिन भी नहीं आये कॉलेजों में क्लास करने बिहार यूनिवर्सिटी

अधिकतर कॉलेजों में 30-50 फीसदी तक ऐसे छात्र है, जो एक माह में एक दिन भी कक्षा करने नहीं आए हैं। कई कॉलेजों ने ऐसे विद्यार्थियों की सूची नोटिस बोर्ड पर भी चिपकाई है। डीएसडब्ल्यू प्रो. अभय कुमार के अनुसार अभी कई कॉलेजों से सूची आनी बाकी है। सभी कॉलेज और विभागों को यह निर्देश दिया गया है कि ऐसे छात्रों की सूची बनाकर रिपोर्ट करें।

बिहार यूनिवर्सिटी एक दिन भी उपस्थित नहीं होने वाले छात्रों का नामांकन रद्द 

पीजी से अधिक यूजी में विद्यार्थियों की अनुपस्थिति बिहार यूनिवर्सिटी

पीजी से अधिक यूजी में अनुपस्थित रहने वाले विद्यार्थियों की संख्या है। यूजी में साइंस से अधिक आर्ट्स के विद्यार्थी अनुपस्थित रहते है। विवि के पीजी विभाग में मनोविज्ञान, अंग्रेजी विभाग ने अनुपस्थित रहने वाले छात्रों की सूची विवि प्रशासन को सौंपी है।

नोटिस बोर्ड पर चिपका नाम तो आया थोड़ा सुधार

आरबीबीएम की प्राचार्या डॉ. ममता रानी ने बताया कि 18 अगस्त को स्नातक की कक्षा के एक महीने पूरे हुए। उसके अगले दिन हमने सूची जारी कर दी। हर विषय में ऐसी छात्राओं की संख्या 30 फीसदी तक है। हालांकि जब छात्राओं को नोटिस भेजा गया और नोटिस बोर्ड पर डिस्प्ले किया गया तो लगभ 8-10 फीसदी छात्राएं कक्षा करने आई। बता दें कि विवि के अलग-अलग कॉलेजों में यूजी में एक लाख से अधिक नामांकन है।

  • यूजी और पीजी विभागों में नामांकन के बाद कक्षा नहीं करने वालों की मांगी रिपोर्ट
  • अनुपस्थित रहने वाले विद्यार्थियों के नामांकन पर लटकी तलवार
  • स्पष्टीकरण के बाद सही कारण नहीं बताने पर रद्द होगा नामांकन
  • 75 फीसदी उपस्थिति की बाध्यता के बावजूद कॉलेजों में यह हाल

कुछ महत्वपूर्ण लिंक

YOUTUBESUBSCRIBE
TELEGRAMjoin

विवि-कॉलेज: हाजिरी 75% से कम तो परीक्षा नहीं दे पाएंगे Click Here

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top