DM Kaise bane?

DM Kaise bane? डीएम कैसे बने? कलेक्टर कैसे बने?

DM Kaise bane- हर कोई छात्र चाहता है कि उसे किसी अच्छी Rank वाला सरकारी Job मिले. अगर आप भी जिला अधिकारी बनने के इच्छुक हैं और DM के पद पर नौकरी करना चाहते हैं तो आज इस पोस्ट में हम बात करेंगे कि जिला अधिकारी या DM  कैसे बने.

D M को District Magistrate या जिला अधिकारी के रूप में जाना जाता है. यह जिले का सबसे सम्माननीय पद होता है, इसे आप जिले का मुखिया भी कह सकते हैं. DM Officer का कार्य होता है जिले के लोगों के लिए कार्य करना तथा वहां के Security System पर ध्यान देना. तो चलिए अब विस्तार से जानते हैं कि DM कैसे बनें और इसके लिए क्या क्या Qualifications की आवश्यकता है.

जैसा कि मैंने पहले बताया जिला मजिस्ट्रेट(District Magistrate) या कलेक्टर या जिला अधिकारी, जिले के अंदर सबसे सम्माननीय पद है. DM को जिले का मुखिया या जिले का कलक्टर भी कहा जा सकता है. यदि जिले की मुख्य कार्यकारी कि बात आए तो डीएम का नाम सबसे पहले आता है. DM का मुख्य कार्य है जिले की सुरक्षा करना और प्रशासन व्यवस्था को ठीक रखते हुए शांति व्यवस्था कायम रखना.

यदि जिले के अंदर कोई भी घटना हो तो इसे ठीक करने की जिम्मेदरियां डीएम के पास ही होती है, वे किसी भी आपराधिक घटना के खिलाफ तुरंत Action ले सकते हैं. जिला प्रशासन का मुख्य कार्य होता है जिले के लोगों के सक्रिय सहयोग तथा समर्थन के साथ विभिन्न कार्यक्रमों या योजनाओं को लागू करना.

DM का full form होता है District Magistrate. जिसका हिंदी में अर्थ है जिला अधिकारी, जिसे जिले का मुखिया भी कहा जाता है.

आपने यहां तक सीखा DM क्या है और DM के क्या कार्य हैं? अब हम जानते हैं डीएम कैसे बनें?

दोस्तों DM बनने के लिए आपको IAS का Exam पास करना होगा जिसका नाम है CSE, यह परीक्षा UPSC (Union Public Service Commission) द्वारा Conduct कराए जाते हैं. इस परीक्षा को पास करने के बाद आपको रैंक के अनुसार विभिन्न प्रकार की Jobs Provide कराई जाती है.

यदि आप इस परीक्षा को Higher Rank के साथ पास करेंगे तो आपकी नियुक्ति IAS (Indian administrative Services) Officer के लिए कराई जाएगी उसके बाद आपको कुछ Services का Experience लेना होता है, उसके बाद कुछ Promotion होने के बाद आपकी नियुक्ति DM या जीला अधिकारी के पद के लिए हो जाती है.

जैसा कि मैंने ऊपर बताया IAS Officer को ही DM के पद पर नियुक्त किया जाता है. तथा IAS बनने के लिए आपको CSE परीक्षा पास करना होता है जो कि Union Public Service Commission द्वारा conduct कराई जाती है. यहां आपकी परीक्षा 3 Stage में कराई जाती हैं. जो इस प्रकार है.

i) Preliminary Exam
ii) Main Exam
iii) Interview

यदि आप DM बनने के लिए फॉर्म भरते हैं तो सबसे पहले आपको Preliminary Exam से गुजरना होगा. यह परीक्षा का पहला Stage होता है.

यदि आपने Preminiary Exam को पास कर लिया तो आपको Mains Exam से गुजरना होगा. इस परीक्षा को पास करने के बाद आप Interview में शामिल हो सकते हैं.

यह Exam का Third Stage है. यदि आपका Intelligence Test के लिए विभिन्न प्रकार के सवाल पूछे जाते हैं. Interview पास करने के बाद आपकी नियुक्ति IAS Officer के लिए होगी और आपके पास थोड़ा Experience होने तथा Promotion के बाद आपकी नियुक्ति DM Officer पद के लिए की जाएगी.

यदि आप DM बनना चाहते हैं तो आपको किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या University से स्नातक की परीक्षा पास करनी होगी. यदि आप पहले से ही Graduation कर रखी है तो आप DM बनने के लिए UPSC द्वारा Conduct कराए जाने वाले CSE (Civil services Exam) परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं.

यदि आप सोच रहे हैं कि DM बनने के लिए आपको Graduation में कितने Marks कि जरूरत है तो मैं आपकी जानकारी के लिए बता दुं कि यहां आपको पास Graduate होना अनिवार्य है यहां आपके Marks या Percentage से कोई फर्क नहीं पड़ता.

DM बनने के लिए सामान्य वर्ग (General Category) वाले उम्मीदवार के लिए Age limit 21 वर्ष से लेकर 32 वर्ष तक रखी गई है. वहीं OBC वाले उम्मीदवारों के लिए 3 साल की छूट यानी Age limit 21 वर्ष से 35 वर्ष तक तथा SC/ST उम्मीदवारों के लिए 5 साल की छूट यानी Age limit 21 वर्ष से 37 वर्ष तक की है.

यहां पर ध्यान देने वाली बात यह है कि जिला अधिकारी बनने के क्रम में आपके पास एक सीमित Attempt होते हैं. यदि आप General Category के अंदर आते है तो आप 6 बार इस फॉर्म को भर सकते हैं.

यदि आप OBC Candidate हैं तो आपको 9 Attempt मिलते हैं, वहीं SC ST के लिए यहां कोई सीमा नहीं है, आप यदि SC ST के उम्मीदवार हैं तो आप अधिकतम 37 साल तक जितनी बार चाहें यह Exam दे सकते हैं.

जैसा कि मैं पहले ही बता चुका हूं DM का पद एक सम्माननीय पद है. इस पद पर कार्यरत होने के बाद आपको किसी चीज से समझौता करने की आवश्यकता नहीं है. यह IAS Level की नौकरी है. DM को वेतन के रूप में प्रतिमाह न्यूनतम 50 हजार रुपए मिलते हैं जो अधिकतम 1.5 लाख रुपए तक हो सकते हैं.

  • कानून व्यवस्था की स्थापना.
  • अधीनस्थ कार्यकारी मेजिस्ट्रेटरों का निरक्षण करना.
  • पुलिस और जेलों का निरक्षण करना.
  • अपराध प्रक्रिया संहिता के निवारक खंड से सम्बन्धित मुकदमों की सुनवाई करना.
  • मृत्यु दंड के कार्यान्वयन को प्रमाणित करना.
  • सरकार को वार्षिक अपराध प्रतिवेदन प्रस्तुत करना.
  • सभी मसलों में मंडल आयुक्त को अवगत कराना.
  • मंडल आयुक्त की अनुपस्तिथि में जिला विकास प्राधिकरण के पदेन अध्यक्ष के रूप में काम करना.
Whatsapp Group JoinCLICK HERE
TELEGRAMjoin
YOUTUBESUBSCRIBE

वकील कैसे बने | lawyer / Advocate kaise bane | वकील बनना है तो ये एक्जाम दें

Syllabus

Important Upcoming Jobs

Scholarship

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top